…अब यूपी के थाने भी नहीं रहे सुरक्षित, पुलिस के सामने गला घोंट कर लेखपाल ने किया पीड़ित की हत्या का प्रयास

आजमगढ़। उत्‍तर प्रदेश में इन दिनों पुलिस के थानों में ही लोगाें की जान बचाने के लाले पड़े हुए हैं। हर शनिवार को थाना दिवस के दौरान जमीन संबंधी विवाद के लिए लेखपाल और पीडित व्‍यक्ति परिसर में मौजूद रहकर अपनी समस्‍याओं का समाधान प्राप्‍त करते हैं। मगर आजमगढ़ जिले में लेखपाल ने एक मामले में पहले तो पांच हजार रुपये घूस मांगे और इसकी शिकायत इंस्‍पेक्‍टर से करने पर लेखपाल ने पीडित का ही गला दबाकर थाने में जान से मारने की कोशिश की। वहीं थाने में मारपीट की जानकारी होने पर पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। किसी तरह आनन फानन पुलिस ने लेखपाल के कब्‍जे से पीडित को बचाया।

दरअसल निजामाबाद तहसील अंतर्गत ग्रामसभा फत्तनपुर निवासी बेचन पुत्र विश्वनाथ ने 5 अक्टूबर को अपने मामले के समाधान के लिए थाना दिवस पर एक प्रार्थना पत्र दिया था। आरोप लगाया था कि हमारे जमीन में गांव के ही एक व्यक्ति ने द्वार खोल रखा है जिस पर एसडीएम निजामाबाद प्रियंका प्रियदर्शनी ने क्षेत्रीय लेखपाल को आदेशित किया कि मौके पर जाकर मामले का समाधान कराएं। इसके बाद से ही पीडित न्‍याय की अधिकारियों से उम्‍मीद लगाए बैठा था मगर शनिवार को थाने में ऐसा हुआ कि इंसाफ मांगने वाले को ही जान के लाले पड़ गए। उसी समय थाने में बना वीडियो वायरल होने के बाद लेखपाल की पूरी करतूत सामने आ गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *