कमलेश तिवारी हत्याकांड: मौलाना गिरफ्तार, सिर काटने पर रखा था 51 लाख का ईनाम

 

लखनऊ। उत्तर-प्रदेश में सरकार की नाक के नीचे हुई कमलेश तिवारी की हत्या ने सभी के होश उड़ा दिए हैं। हत्या मामले में संदिग्धों की पहचान करते हुए पुलिस ने पहली गिरफ्तारी कर ली है। हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की हत्या मामले में नामजद मौलाना अनवारुल हक को बिजनौर पुलिस ने हिरासत में ले लिया। पुलिस मौलाना को बिजनौर में उसकी ससुराल से हिरासत में लिया। फिलहाल मौलाना को कहां रखा गया है इसके बारे में पुलिस ने कोई जानकारी नहीं दी है। हालांकि मौलाना से किसी गुप्त स्थान पर रखकर पूछताछ की जा रही है।

ज्ञात हो कि वर्ष 2015 में मौलाना अनवारुल ने कमलेश तिवारी का सिर कलम करने वाले को 51 लाख का ईनाम  देने को कहा था। अनवारुल को थाना नगीना के आशियाना कॉलोनी से गिरफ्तार किया गया है। इसके अलावा गुजरात  के सूरत से भी 7 संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है, उनसे पूछताछ की जा रही है।

मुफ्ती का भी नाम शामिल

कमलेश तिवारी की पत्नी द्वारा कराई गई एफआईआर में मौलाना अनवारुल का नाम था जिसके बाद ये कार्रवाई की गई है। इसके अलावा एक और मौलाना मुफ्ती नईम काशमी का भी नाम सामने आ रहा है। घटनास्थल से सूरत की मिठाई की दुकान का एक बॉक्स मिला है जिसमें आरोपियों द्वारा अथियार छुपाकर लाने की बात कही जा रही है।

  सीएम योगी ने दिए SIT गठन के आदेश

इस मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एसआईटी का गठन किया है। एसआईटी में लखनऊ के आईजी एसके भगत, लखनऊ के एसपी क्राइम दिनेश पूरी और एसटीएफ के डिप्टी एसपी पीके मिश्रा शामिल हैं. इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने कमलेश तिवारी हत्याकांड में प्रमुख सचिव गृह और डीजीपी से रिपोर्ट भी मांगी है। बताया जा रहा है कि तीन संदिग्धों का एक सीसीटीवी फूटेज भी सामने आया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *