निषादों के खिलाफ बढ़ते पुलिसिया अत्याचार के खिलाफ एकजुट हुआ निषाद समाज

nishad-shyam

गाजीपुर। पीएम मोदी की रैली से वापस लौटते समय अटवा मोड़ चौकी के सामने आरक्षण की मांग को लेकर उग्र भीड़ द्वारा पुलिस कर्मी की हत्या कर डाली गयी। जिसमें पुलिस ने सैकड़ो अज्ञात समेत 32 के खिलाफ नामजद मुकद्दमा दर्ज कर दर्जनों लोगो को गिरफ्तार भी कर लिया। अन्य की गिरफ़्तारी के लिए रात भर दबिश जारी है। निषाद समाज के लोगो ने दबिश के नाम पर पुलिसिया उत्पीड़न के खिलाफ पुलिस अधीक्षक एवं सदर विधायक को ज्ञापन सौपा। आक्रोशित निषाद समाज के लोगों ने कार्यवाई के नाम पर घर की महिलाओं एवं बच्चों पर तत्काल उत्पीड़न बंद करने की मांग के साथ भारतीय जनता पार्टी को आगामी चुनाव में सबक सीखने का संकल्प लिया, वंही दबिश से डरे सहमे निषाद समाज के लोग परिवार समेत कड़ाके की ठण्ड में गंगा की रेत में शरण लेने को मजबूर है।

ज्ञात हो कि पीएम मोदी के जनपद आगमन के ही दिन निषाद पार्टी के लोगों द्वारा आरक्षण की मांग को लेकर अटवा मोड़ चौकी के सामने जाम लगा दिया। पुलिस बल के पीएम मोदी के कार्यक्रम में होने के कारण उन्हें हटाया नहीं जा सका और रैली से लौटते हुए भाजपा कार्यकर्ताओं से उनका आमना सामना हो गया। दोनों ओर से ईट पत्थर चलने लगे जिसमें रैली से ड्यूटी समाप्त कर करीमुद्दीनपुर वापस लौटते समय सिपाही भी भीड़ की भेट चढ़ गया, जिससे उसकी मौत हो गई। सिपाही की हत्या के मामले में सैकड़ो अज्ञात समेत 32 लोगों को नामजद किया गया जिसमें 11 लोगों की गिरफ्तारी भी की जा चुकी है। निषाद समाज के लोगों का आरोप है कि अन्य की तलाश के नाम पर निषादों के घर में घुस कर पुलिसकर्मियों द्वारा अब अत्याचार किया जा रहा है, जिसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

atwa-mod
सोशल मिडिया पर वायरल पुलिसिया उत्पीड़न की तस्वीर, संजय कुशवाहा के वाल से

इस सन्दर्भ में निषाद समाज का एक प्रतिनिधि मंडल युवा नेता श्याम चौधरी के नेतृत्व में पुलिस अधीक्षक एवं सदर विधायक से मिला। श्याम चौधरी ने सोशल मिडिया पर वायरल हो रहे पुलिसिया उत्पीड़न की तस्वीरें भी एसपी यशवीर सिंह को दिखाई तथा हस्तक्षेप करने की मांग की। वंही भाजपा को चेताते हुए कहा कि शीर्ष नेताओं की चुप्पी सभी को 19 में बहुत भारी पड़ने वाली है। पुलिस अधीक्षक ने सभी को आश्वाशन देते हुए कहा कि बेगुनाहो को किसी प्रकार से परेशान होने की आवश्यकता नहीं है पर वे गुनाहगारो को छोड़ेंगे भी नहीं। प्रतिनिधिमंडल में मुख्य रूप से पप्पू चौधरी, दादा यादव, इंद्रजीत, अरविन्द बिन्द, बृजेश, अनिल, मनोज, शिन्टु, डॉ जोगेंद्र, सुरेंद्र, अजीत, जगत मोहन, रामजी, मकरध्वज आदि प्रमुख थे।

yogi-adityanath-header

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*