फर्जी डिग्रियों पर बीए पास बने बैठे इंजीनियर, कोई ब्रिज इंजीनियर तो कोई बना प्रोजेक्ट मैनेजर

ghazipur-fake-degree

गाजीपुर। सरकारी विभागों में फर्जी डिग्रियों पर नौकरी करने वाले आये दिन पकड़े जाते है पर गैर सरकारी कंपनियों में ऐसे लोगों की संख्या दिनों दिन बढाती जा रही है, क्योकि फर्जी डिग्रीधारकों के लिए यह सेफ ज़ोन बन गया है। गैर सरकारी कंपनियों में नाही डिग्रियों का वेरिफिकेशन किया जाता है और नही व्यक्ति का, उनको तो बस कम सेलरी पर काम करने वालों से वास्ता होता है। जबकि सरकारी काम करा रही कंपनियों का भुगतान सरकार द्वारा ही किया जाता है। इसी का फायदा उठा फर्जी डिग्रीधारक इंजीनियरिंग की फर्जी डिग्री लगा सीनियर ब्रिज इंजीनियर लगायत प्रोजेक्ट मैनेजर तक बने बैठे है, जो देश की सुरक्षा के नाम पर सवालिया निशान बन बैठे है। इनके द्वारा नव निर्मित बड़े बड़े ब्रिजों में अभी से दरार आना शुरू हो गयी है।

गैर सरकारी संस्थाओ द्वारा नहीं कराया जाता वेरिफिकेशन 

सूत्रों के अनुसार राष्ट्रीय राज्य मार्ग के निर्माण में लगी गैर सरकारी कंपनियों में फर्जी डिग्री धारकों की भरमार है, जो इन कंपनियों के लूज़ पॉइंट पकड़ कर फर्जी डिग्रियों की आड़ में भर्ती हो गए है। गैर सरकारी कंपनियों में नाही डिग्रियों का वेरिफिकेशन किया जाता है और नही व्यक्ति का, जबकि सरकारी काम करा रही कंपनियों का भुगतान सरकार द्वारा ही किया जाता है। लम्बे समय से उच्च पदों पर आसीन हो चुके ये फर्जी डिग्रीधारियों को शासन/प्रशासन का कोई भय भी नहीं है। गुणवत्ता से समझौता कर ठेकेदार की मिलीभगत से इन्होने अकूत सम्पत्ति कमा ली है, जिससे इनके लगभग हर महानगरों में आलिशान बंगले और बेशकीमती गाड़िया है। सरकारी तंत्र में न होने के कारण आय से अधिक की सम्पत्ति होने के बावजूद भी ये इनकम टैक्स लगायत सभी सतर्कता आयोगों से बचे पड़े है।

झांसा दे बड़े घरों में करते है रिश्ते

फर्जी डिग्रीधारियों की लीला केवल सरकारी तथा गैर सरकारी संस्थाओ को ही चुना लगाना शेष नहीं है। वे अपनी फर्जी डिग्री का रोब दिखा बड़े घरों की भोली-भाली लड़कियों से रिश्ता करते है, जो बाद में पोल खुलने पर वे उनके लिए ढाल का काम करती है। समाजसेवी सुनील सिंह ने बताया कि ऐसे लोगो को अपनी बेटियों कि शादी करने से पूर्व होने वाले दूल्हे के बारे में सभी जानकारियां एकट्ठा कर सम्बंधित यूनिवर्सिटी जा या ऑनलाइन डिग्रियों का वेरिफिकेशन कर ले।

कहा करे इनकी शिकायत

जगरूप जनता ऐसे लोगों को पकड़वाना तो चाहती है पर जानकारी न होने के कारण चाह कर भी कुछ नहीं कर पाती है। ऐसे फर्जी डिग्रीधारकों को पकड़वाने के लिए आप अपने नजदीकी पुलिस थाने जाकर नामजद शिकायत दर्ज करा सकते है। कार्यवाई न होने पर समाजसेवी संगठनों के माध्यम से उक्त के संबंध में शिकायत दर्ज करा सकते है तथा उनके द्वारा अर्जित आय से अधिक सम्पत्ति के मामले में निम्न वेबसाईटों पर भी शिकायत की जा सकती है-

केद्रीय जन शिकायत निवारण एवं निगरानी प्रणाली:- https://pgportal.gov.in/


ईडी (प्रवर्तन निदेशालय)- http://www.enforcementdirectorate.gov.in/

yogi-adityanath-header

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*